SBI Superhit Scheme : 10 साल में पाएं 21 लाख रुपये,यहां जानें पूरी जानकारी

SBI Superhit Scheme : आमतौर पर जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है,निवेश को लेकर जोखिम लेने की क्षमता कम हो जाती है.रिटायरमेंट के बाद कोई भी आम निवेशक अपने पैसे को लेकर किसी भी तरह का जोखिम नहीं लेना चाहता.यह सच है कि वरिष्ठ नागरिक होने के बाद पैसे पर जोखिम नहीं लिया जा सकता,लेकिन ऐसा भी नहीं है कि पैसे से पैसा बनाने के विकल्प खत्म हो गए हैं।

SBI Superhit Scheme : 10 साल में पाएं 21 लाख रुपये,यहां जानें पूरी जानकारी

वरिष्ठ नागरिकों के लिए निश्चित और गारंटीकृत आय के लिए कई बैंक जमा और सरकारी योजनाएं हैं। इनमें से एक है भारतीय स्टेट बैंक (SBI Superhit Scheme ) की वरिष्ठ नागरिक सावधि जमा योजना। अगर आप हाल ही में रिटायर हुए हैं और आपके पास अच्छी खासी रकम है तो लंबी अवधि के नजरिए से एसबीआई की सीनियर सिटीजन एफडी स्कीम में निवेश करना बेहतर विकल्प है।

SBI FD दरें 2023 वरिष्ठ नागरिकों को कितना फायदा

एसबीआई की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक,वरिष्ठ नागरिक 7 दिन से लेकर 10 साल तक की परिपक्वता अवधि के लिए एसबीआई की एफडी योजना में जमा कर सकते हैं। आम तौर पर वरिष्ठ नागरिकों को नियमित ग्राहकों की तुलना में फिक्स्ड डिपॉजिट पर आधा फीसदी (0.50%) ज्यादा ब्याज मिलता है. वहीं,वरिष्ठ नागरिकों को 5 साल से 10 साल की एफडी पर 1% ज्यादा ब्याज मिलता है।एसबीआई की वेबसाइट के मुताबिक,नियमित ग्राहकों को 5 साल से 10 साल तक की एफडी पर 6.5 फीसदी सालाना ब्याज मिल रहा है,जबकि वरिष्ठ नागरिकों को बैंक 7.5 फीसदी सालाना ब्याज दे रहा है.

एसबीआई एफडी 10 लाख 10 साल में 21 लाख हो जाएंगे

मान लीजिए कि एक वरिष्ठ नागरिक एसबीआई ( SBI Superhit Scheme ) की 10 साल की परिपक्वता योजना में 10 लाख की एकमुश्त राशि जमा करता है। एसबीआई एफडी कैलकुलेटर के मुताबिक,निवेशक को 7.5 फीसदी सालाना ब्याज दर पर मैच्योरिटी पर कुल 21,02,349 रुपये मिलेंगे। इसमें ब्याज से 11,02,349 रुपये की निश्चित आय होगी.आपको बता दें,एसबीआई ने 15 फरवरी 2023 से 2 करोड़ रुपये से कम की जमा पर ब्याज दरें 0.25 फीसदी बढ़ा दी हैं.बैंकों की ओर से कर्ज महंगा करने के साथ-साथ जमा पर ब्याज दरें भी बढ़ाई जा रही हैं.इससे पहले एसबीआई ने 13 दिसंबर 2022 को एफडी पर ब्याज दरें बढ़ाई थीं।

एसबीआई एफडी ब्याज आय कर योग्य SBI Superhit Scheme

बैंकों की फिक्स्ड डिपॉजिट/टर्म डिपॉजिट सुरक्षित मानी जाती है। जोखिम न लेने वाले निवेशकों के लिए यह एक अच्छा विकल्प है। 5 साल की टैक्स सेविंग FD पर सेक्शन 80C के तहत टैक्स छूट मिलती है. हालांकि, एफडी पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्स लगता है। आयकर नियमों (आईटी नियमों) के अनुसार, एफडी योजना पर स्रोत पर कर कटौती ( टीडीएस ) लागू होती है। यानी एफडी की मैच्योरिटी पर मिलने वाली रकम आपकी आय मानी जाएगी और आपको स्लैब रेट के हिसाब से टैक्स देना होगा।

यह भी जाने :

Leave a Comment